बजट में क्या सस्ता क्या महंगा 2018 - विस्तार से जानकारी - Sarkari Naukri Career

Thursday, February 1, 2018

बजट में क्या सस्ता क्या महंगा 2018 - विस्तार से जानकारी

बजट में क्या सस्ता क्या महंगा 2018
केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने लोकसभा में वित्त वर्ष 2018-19 का आम बजट पेश किया | बजट से सम्बंधित जानकारी प्राप्त करने हेतु लोगो के अन्दर अधिक उत्सुकता है ,कि बजट में किस वस्तु के मूल्य में वृद्धि हुई और किस वस्तु कीमत घटाई गयी |  
बजट प्रस्तुत करते हुए वित्त वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि ,बाजार में कैश का प्रचलन कम हुआ है ,और जीएसटी को आसान बनाने की प्रक्रिया जारी है । हाल ही में प्रस्तुत हुए बजट में किन –किन वस्तुओं के मूल्य में वृद्दि और कमी हुई है? इसके बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहें है |
वित्त वर्ष 2018-19 का बजट
वित्तमंत्री अरुण जेटली ने पीएम मोदी के ‘न्‍यू इंडिया का बजट’ प्रस्तुत किया | वित्त मंत्री ने अपने बजट में लगभग सभी का ध्यान रखा है | वित्त मंत्री जी ने अपने बजट भाषण में  किसान, गरीब, युवा, गृहणी, उद्यमी सभी को खुश किया ,साथ ही  किसानों को लागत मूल्‍य से 50 फीसदी अधिक देने की घोषणा की | वरिष्ठ नागरिकों को ध्यान में रखते हुए मंत्री जी ने वरिष्ठ नागरिको को डिपॉजिट में राहत दी ,और उनकी डिपॉजिट 10 हजार से बढ़कर 50 हजार कर दी गयी  ,जिसमें किसी प्रकार का कर सम्मिलित नहीं किया जायेगा |

फर्नीचर, गद्दे, लैंप, हाथ और पॉकेट घड़ियां ,सनस्क्रीन, सनटैन, मैनीक्यूर, पेडिक्यूर का सामान, डेंचर फिक्सेटिव पेस्ट कारें और मोटरसाइिकल, मोबाइल फोन, चांदी, सोना, सब्जियां, फलों का जूस, सोया प्रोटीन को छोड़कर अन्य फूड तैयार करने का अन्य सामान, और पाउडर, डेंटल फ्लॉस, शेविंग से पहले और बाद इस्तेमाल किए जाने वाली प्रसाधन सामग्रियां, डियोडोरेंट, स्नान का सामान, परफ्यूम वाले स्केंट स्प्र और इसी तरह के अन्य टायलेट स्प्रे, टूक और बसों के रेडियल टायर, रेशमी कपड़े, जूते चप्पल, रंगीन रत्न, हीरे, कृत्रिम आभूषण आदि के मूल्यों में वृद्धि हुई ।
यह वस्तुएं हुई महंगी
1.टीवी-मोबाइल के दाम बढ़ेंगे |
2.विदेशी मोबाइल, लैपटॉप भी महंगे होंगे |
3.इलेक्ट्रोनिक्स और फूड प्रोसेसर पर 5 प्रतीशत की कस्टम ड्यूटी बढ़ाई |
4.31 जनवरी 2018 के बाद खरीदा शेयर पर 10 पर्सेंट टैक्स |
5.मेडिकल बिल पर 15 हजार की छूट नहीं रहेगी |
6.विदेशों से लग्जरी कार मंगवाने पर अब ज्यादा पैसा खर्च करना होगा |
7.फूड प्रोसेसिंग, इलेक्ट्रोनिक्स पर 5 फीसदी की कस्टम ड्यूटी बढ़ाई गई |
8.विदेशी मोबाइल, टीवी, लैपटॉप के भी दाम बढ़ेंगे |
9.मोबाइल फोन पर सीमा शुल्क बढ़ाकर 15 से 20 फीसदी किया गया |
10.टीवी के कलपुर्जों पर कस्टम ड्यूटी में वृद्धि |
Read: Rail Budget
यह वस्तुए हुई सस्ती
1.एलएनजी (लिक्विफाइड पेट्रोलियम गैस) |
2.प्रिपेएर्ड लेदर |
3.सिल्वर फॉयल ऑ
4.पीओसी मशीनें |
5.फिंगर स्कैनर |
6.माइक्रो एटीएम ऑ
7.आइरिस स्कैनर |
8.सौर बैटरी |
9.देश में तैयार हीरे के आभूषण |
10.ई-टिकट पर से सर्विस टैक्स कम किया गया |
महत्वपूर्ण बातें
1.इनकम टैक्स दरों में कोई बदलाव नहीं |
2.वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पेश किया बजट |
3.बुजुर्गों के लिए भी कई अहम परिवर्तन |
वित्तमंत्री अरुण जेटली ने आम बजट 2018-19 में व्यक्तिगत आयकर में कोई परिवर्तन नहीं किया है | छूट की सीमा पहले की तरह 2.5 लाख रुपए निश्चित है , मेडीक्लेम में 50 हजार रुपए तक की छूट दी गई है | नौकरीपेशा को टैक्स में किसी प्रकार की छूट नहीं  दी गयी |  इस वर्ष डायरेक्ट टैक्स 12.6 प्रतिशत वृद्धि हुई है | टैक्स का बजट प्रस्तुत करने के पश्चात शेयर बाजार में गिरावट भी आई , सेंसेक्स में 250 अंकों तक की गिरावट हुई |
बजट 2018 में टैक्स से सम्बंधित अहम बातें
1.इनकम टैक्स के दरों में कोई परिवर्तन नहीं |
2.नौकरीपेशा को टैक्स में किसी प्रकार की छूट नहीं |
3.वरिष्ठ नागरिकों को 50 हजार तक के ब्याज पर कोई टैक्स नहीं. कुछ खास बीमारियों में बुजुर्गों की छूट बढ़ी |
4.मेडीक्लेम पर 50 हजार तक की छूट |
5.स्टैंडर्ड डिडेक्शन 40,000 रुपए किया |
6.मेडिकल खर्च पर छूट 15 हजार से बढ़ाकर 40 हजार रुपए किया |
7.कॉर्पोरेट टैक्स में कंपनियों को भारी छूट |
8.एक लाख तक लॉन्ग टर्म कैपिटल पर 10 लाख की छूट |
9.टैक्स देने वालों की संख्या 19.25 लाख बढ़ी, 90 हजार करोड़ ज्यादा कलेक्शन |
10.250 करोड़ टर्नओवर वाली कंपियों को सिर्फ 25% टैक्स देना होगा |
11.इस साल डायरेक्ट टैक्स 12.6 प्रतिशत हुई |
12.काले धन के खिलाफ मुहिम से डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन बढ़ा |
13.बजट के लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस भी अब टैक्स नेट में, एक लाख तक लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस पर 10% कर |
14.ईपीएफ में नए कर्मचारियों का 12% सरकार देगी, अब तक 8.33% सरकार देती रही है |
15.दो बीमा कंपनियों सहित 14 सरकारी कंपनियां शेयर बाजार से जुड़ेंगी |
बजट में किसानों के लिए क्या है खास
1.प्रत्येक खेत को पानी, कृषि सिंचाई योजना हेतु 2600 करोड़ रुपए प्रदान करने की घोषणा |
2.1200 करोड़ बांस क्षेत्र के विकास के लिए राष्ट्रीय बांस मिशन, बांस को पेड़ की श्रेणी से अलग किया जाएगा |
3.खेती के लिए 10 लाख करोड़ का क्रेडिट कार्ड प्रदान किया जायेगा |
4.आलू-प्याज के लिए ऑपरेशन ग्रीन |
5.किसानों को कम लागत में ज्यादा उपज की मदद |
6.2022 तक किसानों की आय दुगुनी करने का लक्ष्य |
7.देश का कृषि उत्पादन रिकॉर्ड स्तर पर, साल 2017 में 275 मिलियन टन अनाज हुआ |
8.रबी फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएफसी) लागत से 1.5 गुना ज्यादा, घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य का पूरा लाभ किसानों को मिला |
9.किसानों को उचित दाम दिलाने की कोशिश, ऑर्गेनिक खेती को बढ़ावा दिया |
10.गरीबों को मुफ्त डायलिसिस सुविधा व अन्य सभी सरकारी सेवाएं ऑनलाइन होगी |
11.हमारे 86 % किसान छोटे और मझोले, सौभाग्य से गैस और बिजली कनेक्शन |
12.खेती का बाजार मजबूत करने के लिए 2000 करोड़ खर्च किए जाएंगे |
13.पिछले साल फूड प्रोसेसिंग क्षेत्र 8% की दर से वृद्धि हुई, फूड प्रोसेसिंग क्षेत्र के लिए 1400 करोड़ रुपए दिए जायेंगे |
14.खेती का बाजार मजबूत करने के लिए 2000 करोड़ रुपए प्रदान करनें की घोषणा |
15.किसान क्रेडिट कार्ड पशुपालन के लिए भी |
16.प्रधानमंत्री ग्रामीण विकास योजना के तीसरे चरण में स्कूल-अस्पताल तक सड़क ले जाएंगे |
17.गरीबों-मध्यवर्ग को होम लोन में राहत |
18.महिला स्वसहायता समूहों को भी प्रोत्साहन |
19.अगले 2 साल में 2 करोड़ शौचालय बनाने का लक्ष्य |
20.आठ करोड़ गरीब महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन देने का लक्ष्य |
वित्त मंत्री अरुण जेटली ने स्वास्थ्य बीमा योजना के अंतर्गत देश के 50 करोड़ लोगों को चिकित्सा हेतु 5 लाख रुपए तक की कैशलेस सुविधा देने की घोषणा की |
मित्रों, यहाँ हमनें आपको हाल ही में प्रस्तुत हुए बजट के बारें में बताया | यदि इससे सम्बंधित आपके मन में कोई प्रश्न आ रहा है ,तो कमेंट बाक्स के माध्यम से व्यक्त कर सकते है | हमें आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया का इंतजार है |
ऐसे ही रोचक न्यूज़ को जानने के लिए हमारें sarkarinaukricareer.in पोर्टल पर लॉगिन करके आप इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | यदि आपको यह जानकारी  पसंद आयी हो , तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करें |

Advertisement


Advertisement