Monday, March 5, 2018

CBSE NEET 2018 परीक्षा के इस नियम से सभी हैं परेशान, प्रधानमंत्री तक को लिख डाली चिट्टी

CBSE NEET 2018 परीक्षा के इस नियम से सभी हैं परेशान
नीट परीक्षा का आयोजन केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा किया जाता है,  नीट परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर छात्रों को केन्द्र सरकार द्वारा संचालित मेडिकल संस्थानों में प्रवेश दिया जाता है । हाल ही में बोर्ड द्वारा परीक्षा के नियमों में परिवर्तन किया गया है, परिवर्तित हुए इन नियमों से परीक्षा में सम्मिलित होने वाले लाखो छात्रों को परेशानी में डाल दिया है,और छात्रों का भविष्य खतरे में पड़ गया है, इस मामले को लेकर प्रधानमंत्री, चिकित्सा शिक्षा मंत्री सहित अन्य को पत्र लिखा गया है, इसके बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहें है |


इन नियमों से हुई परेशानी
नीट के नियम 7 और 8 नें  छात्रों में बीच भ्रम की स्थिति उत्पन्न कर दी है, नियमों  के अनुसार, सभी अभ्यार्थियों को 12वीं में भौतिकी, रसायन शास्त्र, जीव विज्ञान एवं जैव प्रौद्योगिकी को मिलाकर दो वर्ष का नियमित एवं निरंतर अध्ययन किया होना चाहिए, इससे अधिक वर्षो में परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले छात्रों को प्रवेश परीक्षा में सम्मिलित नहीं किया जायेगा, साथ ही जिन अभ्यर्थियों नें 12वीं की परीक्षा मुक्त विद्यालय या प्राइवेट अभ्यर्थी के रूप में उत्तीर्ण करनें वाले छात्रों को राष्ट्रीय पात्रता एवं प्रवेश परीक्षा में सम्मिलित होने की अनुमति नहीं है,  इसके अतिरिक्त 12वीं स्तर पर जीव विज्ञान व जैव प्रौद्योगिकी के अतिरिक्त विषय के रूप में किए गए अध्ययन की अनुमति नहीं दी गयी है, जबकि वर्ष 2017 की नीट परीक्षा में ऐसा कोई नियम नहीं था, परीक्षा से पूर्व अचानक नियमों में परिवर्तन से लाखों छात्रों का भविष्य संकट में पड़ गया है |  


प्रधानमंत्री को लिखा पत्र
सामाजिक कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ ने परिवर्तित हुए नियमों आपत्ति दर्ज कराते कहा है, कि शिक्षा क्षेत्र में ऐसा कोई भी नियम पूर्वगामी तिथि से लागू करना न्याय और सिद्धांतों के विरुद्ध है, देश के लाखो छात्र ऋण लेकर,अपनी जमीन बेंचकर, देश के विभिन्न भागो में एक वर्ष से परीक्षा की तैयारी कर रहें है,और अब परीक्षा के सम्मेप आते ही नियमो में परिवर्तन कर दिया गया है, जिससे छात्रों का भविष्य अधर में पड़ गया है, श्री गौड़ ने प्रधानमंत्री, चिकित्सा शिक्षा मंत्री, भारतीय चिकित्सा परिषद को पत्र लिखकर कहा है, कि यह नियम लाखों अभ्यर्थियों एवं उनके माता-पिता के सामनें एक गंभीर समस्या उत्पन्न कर दी  है |


यहाँ आपको हमनें नीट परीक्षा में परिवर्तित हुए नियमों से छात्रों के समक्ष उत्पन्न हुए संकट के बारें में बताया | यदि इससे सम्बंधित आपके मन में कोई प्रश्न आ रहा है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से व्यक्त कर सकते है | हमें आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया का इंतजार है |

ऐसे ही जानकारी जानने के लिए हमारें पोर्टल पर आप डेली विजिट करके इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करें, तथा sarkarinaukricareer.in पोर्टल को सब्सक्राइब करें |


      

Advertisement


Advertisement