UPSEE 2018: UPTU में MBA का घटता क्रेज - पढ़े पूरी स्टोरी - Sarkari Naukri Career

Wednesday, April 4, 2018

UPSEE 2018: UPTU में MBA का घटता क्रेज - पढ़े पूरी स्टोरी


UPSEE 2018: UPTU में MBA का घटता क्रेज 
डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय के एमबीए और एमसीए कॉलेजों के लिए आगामी शैक्षिक सत्र 2018-19 में आवेदन करने वाले छात्रों की संख्या काफी कम है, एमबीए में सीटों की संख्या के अनुसार आवेदन  नहीं आए | एकेटीयू की ओर से आयोजित एसईई-2018 में आवेदन तिथि समाप्त हो चुकी है, परन्तु परीक्षा शुल्क जमा करनें की तिथि में वृद्धि की गयी है, इंजीनियरिंग के क्षेत्र में छात्रों का क्रेज घटता जा रहा है, इसके बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहें है |


इस वर्ष छात्रों की आवेदन संख्या
छात्रों की सुविधा के अनुसार, आवेदन शुल्क जमा करने की तिथि एक अप्रैल तक बढ़ा दी गई थी,  एसईई के समन्वयक प्रो. एके कटियार ने बताया, कि एसईई -2018 में कुल आवेदन करनें वाले छात्रों नें 1,49,467 अभ्यर्थियों ने फॉर्म भरे हैं,  एकेटीयू के कॉलेजों में बीटेक की सीटो की संख्या सवा लाख से अधिक है, परन्तु 1,12,093 छात्रों नें पंजीकरण कराया और 1,08,954 अभ्यर्थियों द्वारा फॉर्म भरा गया है,  बीटेक बायोटेक्नॉलजी में 8077 छात्रों नें  फॉर्म भरे है, और बीटेक कृषि में पूरे प्रदेश से मात्र 16 अभ्यर्थियों आवेदन किया है ।  


एमबीए में छात्रों की संख्या में कमीं
डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय के एमबीए की बीस हजार से अधिक सीटें हैं, परन्तु आवेदन करनें वाले अभ्यर्थियों की संख्या में भारी कमीं हुई है, इसमें मात्र 8775 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है, जबकि एमसीए में 2128 छात्रों नें पंजीकरण कराया, परन्तु  फॉर्म 1906 अभ्यर्थियों द्वारा भरा गया है ।

तीन चरणों में होगी काउंसिलिंग
एसईई की काउंसिलिंग जून के अंतिम सप्ताह में आयोजित की जाएगी, काउंसिलिंग तीन चरणों में होगी और सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेजों की खाली सीटों को कम से कम दो स्पॉट काउंसिलिंग के माध्यम से भरा जाएगा ।


बायोमीटिक उपस्थिति होगी दर्ज
एसईई का आयोजन 29 अप्रैल और पाच व छह मई को किया जाएगा, इसमें सम्मिलित होने वाले अभ्यर्थियों की बायोमीटिक उपस्थिति दर्ज करवाई जाएगी, जिसका मिलान काउंसिलिंग के समय किया जायेगा |

डायरेक्ट एडमिशन हेतु तीन हजार काउंसिलिंग शुल्क
पिछले वर्ष पाच हजार रुपये काउंसिलिंग शुल्क व 15 हजार रुपये एडवांस कॉलेज फीस जमा की गई थी, लेकिन इस बार उनसे काउंसिलिंग में सिर्फ एक हजार रुपये ही लिए जाएंगे, वहीं, दूसरी ओर डायरेक्ट एडमिशन लेने वाले विद्यार्थियों से काउंसिलिंग का कोई शुल्क नहीं लिया जाता था, इस बार ऑनलाइन वेब पोर्टल के माध्यम से काउंसिलिंग होगी और विद्यार्थियों को तीन हजार रुपये काउंसिलिंग शुल्क के रूप में देना होगा ।


यहाँ आपको हमनें डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय के एमबीए और एमसीए कॉलेजों में छात्रों की संख्या कम होने  के बारें में बताया | यदि इससे सम्बंधित आपके मन में कोई प्रश्न आ रहा है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से व्यक्त कर सकते है | हमें आपके द्वारा की गई प्रतिक्रिया का इंतजार है |

ऐसे ही जानकारी जानने के लिए हमारें पोर्टल पर आप डेली विजिट करके इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करें, तथा sarkarinaukricareer.in पोर्टल को सब्सक्राइब करें |

Read: हमारे भारत में कितने (IIT) आई0 आई0 टी0 संस्थान है ?

Read: मेडिकल-इंजीनियरिंग के अलावा कोर्स जो दे सकते है रोज़गार - जानिये



  

Advertisement


Advertisement