आयुष डॉक्टर बनने के लिए भी अब NEET एग्जाम- एग्जिट परीक्षा का भी विधान - Sarkari Naukri Career

Monday, January 1, 2018

आयुष डॉक्टर बनने के लिए भी अब NEET एग्जाम- एग्जिट परीक्षा का भी विधान

आयुष डॉक्टर बनने के लिए भी अब NEET एग्जाम- एग्जिट परीक्षा का भी विधान
सरकार द्वारा एमबीबीएस के बाद आयुष चिकित्सा कोर्स के लिए जल्द ही नीट अनिवार्य करने की तैयारी में है | यह परीक्षा अगले सत्र से आयुर्वेद, यूनानी, होम्योमैथी, सिद्ध आदि पैथियों की पढ़ाई में प्रवेश हेतु छात्रों को नीट टेस्ट पास करना अनिवार्य होगा | छात्र को कम से कम 50 प्रतिशत अंकों के साथ नीट परीक्षा पास करनी होगी इस परीक्षा के बारे में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहे है |



आयुष डॉक्टर बनने हेतु नीट परीक्षा
सरकार आयुष के कोर्सेज में प्रवेश हेतु एमबीबीएस की तर्ज पर ही नीट  को अनिवार्य अनिवार्य करने की तैयारी में है । आयुष के छात्रों को शीघ्र ही प्रैक्टिस लाइसेंस प्राप्त करने के लिए एग्जिट परीक्षा  देने का प्राविधान बनाया जा रहा है । आयुर्वेद, यूनानी और होम्योपथिक चिकित्सा के ग्रैजुएट कोर्सेज में प्रवेश हेतु छात्रों को अगले सत्र से नीट में हिस्सा लेना अनिवार्य कर दिया जायेगा । किसी भी कोर्स में प्रवेश हेतु  छात्रों को कम से कम 50 प्रतिशत अंक प्राप्त करना आवश्यक होगा ।


आयुष मंत्रालय द्वारा अभी इस बात पर विचार किया जा रहा है ,कि आयुष के छात्रों की परीक्षा एमबीबीएस के नीट के साथ ही हो आयुष डॉक्टर बनने के लिए भी अब नीट  एग्जाम आयुष डॉक्टर बनने के लिए भी अब नीट एग्जाम इसके लिए अलग से व्यस्था की जाए । आयुष के अन्तर्गत देश में चिकित्सा पैथियों के लगभग 750 मेडिकल कॉलेज हैं
आयुष विभाग के सचिव राजेश कटोच के अनुसार , एमबीबीएस में होने वाली नीट परीक्षा से आयुष कॉलेजों में  एडमिशन को अनिवार्य बनाने पर विचार किया जा रहा  हैं । इसमें कुछ मुद्दे ऐसे हैं, जिनके समाधान होने के पश्चात उन्हें अंतिम रूप दे दिया जाएगा

अगले सत्र से प्रवेश नीट के के माध्यम से होंगे , हालांकि उन्होंने कहा कि जो नीट एमबीबीएस के लिए होता है, उसी को लागू किया जाएगा, यदि तकनीकी कारणों से यह संभव नहीं हुआ तो अलग से नीट परीक्षा भी आयोजित की जाएगी । एमबीबीएस में एडमिशन के लिए नीट पास करना कानूनी बाध्यता है


एग्जिट परीक्षा होगी अनिवार्य
सरकार आयुष के छात्रों के लिए भी एग्जिट परीक्षा का प्रयोजन कर रही है । नीति आयोग की सलाह पर सरकार ऐलोपैथिक एजुकेशन को रेग्युलेट करने हेतु नैशनल मेडिकल कमिशन बनाने जा रही है । आयुष सिस्टम को रेग्युलेट करने हेतु आयोग द्वारा सरकार को प्रस्ताव दिया है ,इसी के आधार पर केंद्र ने एक बिल से सम्बंधित मसौदा तैयार किया गया है | सके अन्तर्गत आयुष स्टूडेंट्स को प्रैक्टिस लाइसेंस प्राप्त करने हेतु  एग्जिट एग्जाम देना अनिवार्य होगा । सेंट्रल काउंसिल ऑफ इंडियन मेडिसिन और सेंट्रल काउंसिल फॉर होम्योपथी के स्थान पर नैशनल कमीशन फॉर इंडियन सिस्टम ऑफ मेडिसिन ऐंड होम्योपथी का गठन किया जाएगा ।


मित्रों,यहाँ हमनें आपको आयुष चिकित्सा कोर्स के लिए जल्द ही नीट अनिवार्य होने के बारे में बताया | यदि इससे सम्बंधित आपके मन में कोई प्रश्न आ रहा है ,तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है | हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया का इंतजार कर रहें है |

यदि आप इस तरह की और भी अनेको जानकरियाँ पाना चाहते है तो हमारें sarkarinaukricareer.in पोर्टल पर लॉगिन  करें | जहाँ पर आपको डेली करंट अफेयर , आर्टिकल , नौकरी सम्बन्धी तथा करियर के बारे में जानकारियाँ मिलेंगी | यदि आपको यह जानकारी  पसंद आयी हो ,तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करें |



Advertisement


Advertisement