Friday, February 23, 2018

अच्छे विचार हिंदी में - जीवन में सफल होने के लिए ज़रूर पढ़े


अच्छे विचार हिंदी में 
प्रत्येक व्यक्ति अपने जीवन में एक सफल व्यक्ति बनना चाहता है, जबकि सफलता की कामना सभी करते है, परन्तु सफल वही लोग होते है, जो अपने देखे हुए सपनों को साकार करने के लिए दिन रात परिश्रम करते है |  

सही रस्ते के अभाव में अक्सर विद्यार्थी अपने जीवन के लक्ष्य से भटक जाते है, इसलिए महापुरुषों द्वारा दिए गये विचारो को पढ़ना चाहिये, ताकि सफलता को आसानी से प्राप्त किया जा सके, सुविचार के माध्यम से लोगो के सोचनें का तरीका बदल जाता है, कुछ सुविचार हम आपको इस पेज पर बता रहें है |



क्रम सं० विचार एवं उनके लेखक
1. मन, मनुष्य को स्वर्ग या नरक में बिठा देता है। स्वर्ग या नरक में जाने की कुंजी भगवान ने हमारे हाथ में दे रखी है – स्वामी शिवानन्द |
2. अपनी नम्रता का गर्व करने से अधिक निंदनीय और कुछ नहीं है – मारकस औरेलियस |
3. भगवान ने मनुष्य को अपने ही समान बनाया, पर दुर्भाग्य से इन्सान ने भगवान को अपने जैसा बना डाला – महात्मा गांधी |
4. मानव का दानव होना उसकी हार है, मानव का महामानव होना उसका चमत्कार है, और मनुष्य का मानव होना उसकी जीत है – डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन |
5. माँ के ममत्व की एक बूंद अमृत के समुद्र से ज्यादा मीठी है – जयशंकर प्रसाद |
6. तुम ये कभी मत सोचो कि आत्मा के लिए कुछ असंभव है। ऐसा सोचना तो सबसे बड़ा अधर्म है, अगर कोई पाप है, तो वो यही है; की, ये कहना तुम निर्बल हो या अन्य लोग निर्बल हैं – स्वामी विवेकानंद |
7. जब तक हम खुद पे विश्वास नहीं करते तब तक हम भागवान पे विश्वास नहीं कर सकते। – स्वामी विवेकानंद |
8. जो पुत्र पैदा ही न हुआ हो अथवा पैदा होकर मृत हो अथवा मुर्ख हो, इन तीनों में पहले दो ही बेहतर हैं, न की तीसरा, कारण यह है, की प्रथम दोनों तो एक बार ही दुःख देते हैं, जबकि तीसरा पद-पद दुःखदायी होता है – हितोपदेश |
9. मृत्यु वह सोने की चाभी है, जो अमरत्व के भवन को खोल देती है – मिल्टन |
10. मेरी खुद की अनुमति के बिना कोई भी मुझे ठेस नहीं पहुंचा सकता – महात्मा गांधी |
11. अपने रहस्य को किसी को मत बताओ, ये आदत आपको ख़त्म कर देंगी – चाणक्य सुविचार |
12. वह जो अपने प्रियजनों से अत्यधिक जुड़ा हुआ है। उसे चिंता और भय का सामना करना पड़ता है, क्योंकि सभी दुखों कि जड़ लगाव है, इसलिए खुश रहने कि लिए लगाव छोड़ दीजिये – चाणक्य अच्छे विचार |
13. सुंदर विचार जिनके साथ हैं। वे कभी एकांत में नहीं हैं। – सर पी. सिडनी |
14. विद्या के अलावा और कोई ज्ञान नहीं है – थामस फुलर |
15. जैसे सूर्य सबको एक-सा प्रकाश देता है। बरसात सबके लिए बरसती है। उसी तरह विद्यावृष्टि सब पर बराबर होनी चाहिए। – महात्मा गांधी |
16. एक अनपढ़ व्यक्ति का जीवन उसी तरह बेकार है जैसे कुत्ते की पूँछ होती है, जो ना उसके पीछे का भाग ढकती है। ना ही उसे कीड़े-मकौडों के डंक से बचाती है  – चाणक्य सुविचार |
17. “कृत्रिम सुख की बजाये, हमेशा ठोस उपलब्धियों के पीछे समर्पित रहिये” –  अब्दुल कलाम |
18. आप अभी वो हैं जो आप रह चुके हैं। आप बाद वो होंगे जो आप अभी करेंगे – भगवान बुद्ध |
19. युद्ध के लिए तैयार रहना शांति स्थापित रखने के लिए एक बहुत प्रभावशाली साधन है- वाशिंगटन |
20. सज्जनों का यह लक्षण है कि वे सदैव दया करनेवाले और करुणाशील होते हैं – महाभारत
21. सज्जन पुरुष की वास्तविक परिभाषा यही है कि वह कभी किसी पुरुष को पीड़ित  नहीं करता – सी. न्यूमैन
23. हम यहाँ किसी विशेष कारण से हैं, इसीलिए अपने भूत का कैदी बनना छोड़िये अपने भविष्य के निर्माता बनिए – रोबिन शर्मा |
24. जो लोंग मन को नियंत्रित नहीं करते। उनके लिए मन शत्रु के समान कार्य करता है – श्रीमद्भगवद्गीता |
25. बड़ा सोचो, जल्दी सोचो, सबसे आगे सोचो, विचारों पर किसी का भी एकाधिकार नहीं है – धीरूभाई अंबानी |
26. अपना बोझ दुसरे पर न लादना और बिना संकोच दान करना बड़े साहस का काम है – जुन्नेद |
27. छोटी चीजों के  बारे  में हमेशा वफादार रहिये क्योंकि इन्ही में आपकी शक्ति निहित होती है – मदर टेरेसा |
28. बेहतर यही होगा कि आप कोशिश करें शायद इसमे आप नाकामयाब हो जाएं और उससे कुछ सीखें बजाये इसके की आप कुछ करें ही नहीं – मार्क जुकरबर्ग  |
29. गरीबों की सेवा ही ईश्वर की सेवा है – सरदार वल्लभभाई पटेल |
30. सेवा से शत्रु भी मित्र हो जाता है- वाल्मीकि |
31. यदि कोई दुर्बल मानव तुम्हारा अपमान करे तो उसे क्षमा कर दो, क्योंकि क्षमा करना ही वीरों का काम है। परंतु यदि अपमान करने वाला बलवान हो तो उसको अवश्य दण्ड दो – गुरु गोविन्दसिंह |
32. दानी कभी दुःख नहीं पाता, उसे कभी पाप नहीं घेरता – ॠग्वेद |
33. कोई इन्सान दो आदमियों की एकनाथ खिदमत नहीं कार सकता; चाहे प्रभु की उपासना कर लो, चाहे कुबेर की। – बाइबिल |
34. न्याययुक्त व्यवहार करना, सौंदर्य से प्रेम करना तथा सत्य की भावना को ह्रदय में धारण करके विनयशील बने रहना ही सबसे बड़ा धर्म है। – डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन |
35. दोष निकलना सुगम है, उसे अच्छा करना कठिन। – प्लूटार्क |
36. गुरु का भी दोष कह देना चाहिए। – स्वामी रामतीर्थ |
37. धीरज सारे आनंदों और शक्तियों का मूल है – फ्रैंकलिन |
38. असफलता नहीं, अपितु निकृष्ट ध्येय ही अपराध है – जे. आर. लावेल|
39. महान ध्येय का मौन में ही सृजन होता है – साने गुरूजी
40. नम्रता पत्थर को भी माँ कर देती है – प्रेमचन्द |
41. नम्रता सारे सद्गुणों का दृढ़ स्तम्भ है- कन्फ्युशन |
42. मन का धर्म है मनन करना, मनन में ही उसे आनंद है, मनन में बाधा प्राप्त होने से उसे पीड़ा होती है। – रवीन्द्रनाथ ठाकुर |
43. नारी शांति की प्रतिमा है, उसे उच्च पद से नीचे गिराना केवल जंगलीपन है। – रफोडियस |
44. विश्व में कोई वस्तु इतनी मनोहर नहीं। जितनी कि सुशील और सुंदर नारी। – Hant.
45. मौन वार्तालाप की एक महान कला है। – हैजलट |


मित्रों, यहाँ आपको हमनें जीवन में सफल होने के लिए अच्छे विचारो के बारें में बताया | यदि इससे सम्बंधित आपके मन में कोई प्रश्न आ रहा है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से व्यक्त कर सकते है | हमें आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया का इंतजार है |


ऐसे ही जानकारी जानने के लिए हमारें पोर्टल पर आप डेली विजिट करके इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करें, तथा sarkarinaukricareer.in पोर्टल को सब्सक्राइब करें |


Advertisement


Advertisement