जज कैसे बने - जाने पूरी जानकारी (हिंदी में )

Thursday, January 18, 2018

जज कैसे बने - जाने पूरी जानकारी (हिंदी में )

जज कैसे बने -  जाने पूरी जानकारी (हिंदी में)
हमारे देश में न्यायाधीश का पद सबसे अहम् माना जाता है ,क्योकि यह एक ऐसा पद है ,जिसमें लिये गये गलत निर्णय के आधार पर निर्दोष व्यक्ति को दंड मिल सकता है | न्यायाधीश का पद सर्वाधिक जिम्मेदारी का पद होता है | मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति देश के मुख्य न्यायाधीश और संबंधित राज्य के राज्यपाल की सलाह पर राष्ट्रपति द्वारा की जाती है । देश के उच्चतम न्यायालय में मुख्य न्यायाधीश को मिलाकर कुल 26 न्यायाधीश होते हैं ।

यह न्यायाधीश अपने पद पर 65 वर्ष की आयु तक विद्यमान रह सकते  हैं । एक जज बननें के लिए किन योग्यताओं का होना आवश्यक है, यदि आप एक न्यायाधीश बनना चाहते है ,इसके बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहें है |

जज कैसे बने
न्यायाधीश एक ऐसा व्यक्ति है जो कानूनों के संबंध में सुनवाई और परीक्षणों के आधार पर अपना निर्णय देते है | एक न्यायाधीश के समक्ष नागरिक विवाद, यातायात के उल्लंघन और व्यापार विवाद के निर्णय हेतु प्रस्तुत किये जाते है | इस प्रकार के विवादों को सुनकर ,साक्ष्यों के आधार पर उपयुक्त निर्णय देने का अधिकार एक जज को प्राप्त है ,और जज द्वारा दिया गया यह निर्णय सर्वमान्य होता है |


क़ानूनी डिग्री प्राप्त करें
इच्छुक न्यायाधीशों को कानून की डिग्री की आवश्यकता होती है । एक कानून की डिग्री हाईस्कूल के बाद करीब 7 वर्षों में की जा सकती है, जिसमें 4 साल का अंडरग्रेजुएट अध्ययन और 3 साल का लॉ स्कूल सम्मिलित है ,जिसके अंतर्गत आपको  संपत्ति कानून ,संविधानिक कानून, ठेके, नागरिक प्रक्रिया, कानूनी लेखन के बारें में अवगत कराया जाता है |

न्यायाधीश बननें हेतु योग्यता
1. न्यायाधीश बननें हेतु अभ्यर्थी को भारत का नागरिक होना अवशयक है ।

2.दो या दो से अधिक न्यायालयों में लगातार कम से कम पांच वर्षों तक न्यायाधीश के रूप में कार्य का अनुभव होना चाहिए | अथवा किसी उच्च न्यायालय में निरंतर दस वर्ष तक अधिवक्ता के रूप में कार्य करनें का अनुभव हो |

3.किसी उच्च न्यायालय के न्यायाधीश या फिर उच्चतम न्यायालय या उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश को उच्चतम न्यायालय के एक तदर्थ न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया जा सकता है !

4. . न्यायाधीश बननें हेतु अभ्यर्थी की आयु 62 वर्ष के अन्दर होना चाहिए |


प्रशिक्षण प्राप्त करें
न्यायाधीशों को एक न्यायाधीश के रूप में सेवा करने के लिए नियुक्ति के पहले प्रशिक्षण के माध्यम से जाना चाहिए  ,जिससे आपको न्यायालय के परीक्षणों में भाग लेने, कानूनी प्रकाशनों की समीक्षा करने और पूर्ण अभ्यास का मौका मिलेगा । एक बार जब आप सफलतापूर्वक  ट्रेनिंग के माध्यम से जाते हैं, तो आप एक न्यायाधीश के रूप में सेवा अच्छी तरह से कर पाएंगे ।

न्यायाधीशों हेतु विशेष कौशल
1.न्यायाधीशों को तथ्यों का मूल्यांकन करने और सही निर्णय लेने में सक्षम होना चाहिए ।

2.जजों के लिए सबसे महत्वपूर्ण अच्छी सोंच आवश्यक हैं ,क्योंकि उन्हें कानून के नियमों को लागू करना आवश्यक है ।

3.न्यायाधीशों को सभी बातों पर विशेष रूप से ध्यान देना चाहिए ,ताकि वे प्रभावी ढंग से जानकारी का मूल्यांकन कर सकें ।

4.पढ़ना और लेखन कौशल पढ़ना कौशल काम की इस पंक्ति के लिए महत्वपूर्ण हैं ,क्योंकि न्यायाधीशों को महत्वपूर्ण तथ्यों से मूल्यांकन और महत्वपूर्ण तथ्यों में डिफरेंस करने की आवश्यकता होती है । इसके अतिरिक्त इच्छुक न्यायाधीशों को मजबूत लेखन कौशलहोना चाहिए ,ताकि वे स्पष्ट और प्रभावी तरीके से अपील और विवादों पर सही सिफारिशों और फैसले कर सकें ।


एक न्यायाधीश बनने पर आलोचना 
एक न्यायाधीश का अर्थ केवल प्रतिष्ठा और शक्ति के उचित उपयोग का है,इसलिए आपके समक्ष कुछ ऐसे मामले आ सकते है ,जिसका उत्तर देने के लिए आपको सदेव तैयार होना चाहिए |

1.मीडिया में आलोचना

2.शीर्षक-हथियाने के मामले

3.कुछ प्रकार के मामलों के साथ निराशा

4.सबसे मुश्किल चुनौती यह है कि आप सार्वजनिक जीवन का नेतृत्व कर सकते हैं ।


वक़ालत के अतिरिक्त हैं –अच्छी संभावनाए  
यदि आपने लॉ में ग्रेजुएशन पूर्ण कर लिया है ,इसके पश्चात आपके पास सिर्फ वकील बनने का ही विकल्प नहीं है, बल्कि आप अपनी इच्छानुसार देश-विदेश की मल्टीनेशनल कंपनियों में भी नौकरी कर सकते हैं । अनुभव के बाद सरकारी विभागों और निजी कंपनियों के लिए लीगल कंसल्टेंट का काम भी कर सकते हैं ।

राज्य और केंद्र सरकारों में अटॉर्नी जनरल भी लीगल सेक्टर के एक्सपर्ट और बेहद अनुभवी होते हैं । एजुकेशन और रिसर्च से जुडे रहने के इच्छुक युवा एलएलएम और एलएलडी करने के बाद टीचिंग के प्रोफेशन में भी जा सकते हैं । भारतीय व भारतीय मूल की अनेक भारतीय और मल्टीनेशनल कंपनियां तेजी से आगे बढ रही हैं ,जिनका एक भाग आप बन सकते है ।


राज्य स्तरीय न्यायिक पदों पर चयन
एल एल बी की डिग्री प्राप्त करने के पश्चात अनुभव के आधार पर वकीलों की नियुक्ति ,राज्य पुलिस, राजस्व एवं न्यायिक विभागों में की जाती है । विभिन्न स्तर के न्यायालयों में ,जिला एवं सत्र न्यायाधीश, न्यायिक दंडाधिकारी एडवोकेट जनरल, सब मजिस्ट्रेट लोक अभियोजक ,नोटरी एवं शपथ पत्र आयुक्त के पद उपलब्ध हैं ।

इन पदों पर नियुक्ति हेतु आपको राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित पीसीएस जे की परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी  ।  सरकारी स्तर पर जजों तथा अन्य लॉ सेवकों का वेतन, वेतन आयोग द्वारा निर्धारित होता है । इसी तरह सॉलीसिटर, पब्लिक डिफेंडर, अटार्नी जनरल, एडवोकेट जनरल और डिस्ट्रिक अटॉर्नी जैसे पद प्राप्त किये जा सकते हैं ।

Read:कोर्स और कॉलेज का चयन कैसे करें

मित्रों, यहाँ हमनें आपको जज बननें के बारें में बताया | यदि इससे सम्बंधित आपके मन में कोई प्रश्न आ रहा है , तो कमेंट बाक्स के माध्यम से व्यक्त कर सकते है | हमें आपके द्वारा की गई प्रतिक्रिया का इंतजार है |

ऐसे ही रोचक न्यूज़ को जानने के लिए हमारें sarkarinaukricareer.in पोर्टल पर लॉगिन करके आप इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | यदि आपको यह जानकारी  पसंद आयी हो , तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करें |


Advertisement


Advertisement


No comments:

Post a Comment

If you have any query, Write in Comment Box