1 हज़ार बी.टेक स्टूडेंट को मिलेगी अब 80 हज़ार रूपये की फेलोशिप - पढ़े पूरी न्यूज़ विस्तार से - Sarkari Naukri Career

Friday, February 9, 2018

1 हज़ार बी.टेक स्टूडेंट को मिलेगी अब 80 हज़ार रूपये की फेलोशिप - पढ़े पूरी न्यूज़ विस्तार से

1 हज़ार बी.टेक स्टूडेंट को मिलेगी अब 80 हज़ार रूपये की फेलोशिप
केंद्रीय कैबिनेट ने प्रतिभा पलायन अर्थात ‘ब्रेन ड्रेन’ रोकने हेतु  उच्चतर शिक्षा संस्थानों के छात्रों के लिए प्रधानमंत्री रिसर्च फेलोशिप (पीएमआरएफ) को स्वीकृति दी है, और केंद्र सरकार ने इस वर्ष के बजट में इसकी घोषणा की थी |  

इस योजना के अंतर्गत  आईआईटी, आईआईएसईआर और एनआईटी जैसे देश के शीर्ष तकनीकी शिक्षा संस्थानों में पढ़ने वाले छात्रों को आगे शोध के लिए फेलोशिप प्रदान की जाएगी, साथ ही योजना के अंतर्गत चयनित हुए छात्रों को बेंगलुरू स्थित आईआईएससी जैसे संस्थानों में पीएचडी के लिए प्रवेश मिल सकेगा | इस फेलोशिप योजना के बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहें है |


प्रधानमंत्री रिसर्च फेलोशिप
भारतीय विज्ञान संस्थानों (आईआईएससी) में पीएचडी करने के लिए शुरू की गई प्रधानमंत्री शोध फेलोशिप योजना को प्रारंभ करने का मुख्या उद्देश्य भारतीय प्रतिभाओं को विदेशों से वापस लाना है | इस प्रतिभा के विदेशो की ओर पलायन रोकने के लिए ही उच्च शिक्षा मे एक लाख करोड़ रुपये निवेश की व्यवस्था की है। विदेश जाने के कारण ही आइआइटी मे खाली सीट रह जाती है, अब यह प्रतिभा पलायन रुकने की उम्मीद है ।


मानव संसाधन विकास मंत्रालय की एक विज्ञप्ति में कहा गया है, कि  ‘ऐसे छात्र जो पात्रता मानदंड पूरा करते हैं, और जिन्‍हें पीएमआरएफ दिशा निर्देशों में निर्धारित चयन प्रक्रिया के माध्यम से चयनित किया गया  है, उन छात्रों को पहले 2 वर्षों के लिए 70,000 रूपये प्रति माह, तीसरे वर्ष के लिए 75,000 रूपये प्रति माह तथा चौथे और 5वें वर्ष में 80,000 रूपये प्रति माह की फेलोशिप दी जाएगी|

इसके अतिरिक्त  शिक्षा ग्रहण करने वाले प्रत्‍येक छात्र को अंतरराष्‍ट्रीय सम्‍मेलनों और सेमिनारों में शोध पत्र प्रस्‍तुत करने हेतु उनकी विदेश यात्रा से संबंधित खर्च को पूरा करने के लिए 5 वर्ष की अवधि के लिए 2 लाख रूपये का शोध अनुदान प्रदान किया जाएगा |


तीन वर्षो के लिए 1650 करोड़ आवंटित 
इस योजना को सुचारू रूप से चलने के लिए सरकार ने तीन सालों के लिए 1,650 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं, योजना का लाभ  प्रत्येक वर्ष 1,000 छात्रों को मिलेगा | केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के अनुसार, इस योजना को वर्ष  2018-19 के अकादमिक सत्र से लागू किया जायेगा, तथा इसके लिए न्यूनतम स्कोर 8.5 सीजीपीए होना आवश्यक है । आईआईटी और आईआईएस जैसे संस्थानों की सुविधाओं को बेहतर प्रयास किये जा रहे है |

मित्रों, यहाँ आपको हमनें प्रधानमंत्री रिसर्च फेलोशिप योजना के बारें में बताया | यदि इससे सम्बंधित आपके मन में कोई प्रश्न आ रहा है ,तो कमेंट बाक्स के माध्यम से व्यक्त कर सकते है | हमें आपके द्वारा की गई प्रतिक्रिया का इंतजार है |

ऐसे ही रोचक जानकारी प्राप्त करनें के लिए हमारें sarkarinaukricareer.in पोर्टल पर लॉगिन करके आप इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | यदि आपको यह जानकारी  पसंद आयी हो , तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करें |

इसी प्रकार की अनेक नयी जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे पोर्टल को सब्सक्राइब करें ,यदि आपको किसी प्रकार की समस्या आती है ,तो आप हमसे पूँछ सकते है ,आपके द्वारा पूंछे गये प्रश्नों या जानकारी को आपके समक्ष अतिशीघ्र प्रस्तुत करेंगे |

Advertisement


Advertisement