Saturday, March 10, 2018

यूपी बोर्ड ने हाई स्कूल सिलेबस से एलिमेंटरी गणित हटाया - पढ़े पूरी जानकारी

यूपी बोर्ड ने हाई स्कूल सिलेबस से एलिमेंटरी गणित हटाया
यूपी बोर्ड ने नए सत्र में एक बड़े परिवर्तन की प्रक्रिया को लागू करने का नोटिफिकेशन जारी कर दिया है, नए सत्र में प्रारंभिक गणित विषय नहीं पढ़ाया जाएगा, बोर्ड ने हाईस्कूल में प्रारंभिक गणित के विकल्प को समाप्त कर दिया है, अब सभी छात्रों को गणित विषय की पढ़ाई करनी होगी|

इसका मुख्य कारण एनसीईआरटी पाठ्यक्रम लागू किया जाना है, जिसके चलते प्रारंभिक गणित को समाप्त किया जा रहा है, नये शैक्षणिक सत्र से कक्षा 9 एवं 10 में एनसीईआरटी के पैटर्न पर आधारित पाठ्यक्रम लागू हो जायेगा, इसके बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहें है |


एनसीईआरटी के पैटर्न पर आधारित पाठ्यक्रम
प्रारंभिक गणित की विषयवस्तु गणित से काफी सरल थी, आमतौर पर जिन अभ्यर्थियों को इंटर में विज्ञान की पढ़ाई करनी होती थी, वह  केवल गणित लेना पसंद करते थे, शासन के उप सचिव संतोष कुमार रावत की ओर से 7 मार्च को जारी आदेश में, इंटरमीडिएट शिक्षा अधिनियम 1921 में संशोधन के लिए भेजे गए प्रस्ताव को स्वीकृति मिल गई है| 

इसलिए  एक अप्रैल से शुरू हो रहे 2018-19 शैक्षिक सत्र में, जो छात्र कक्षा 9 में प्रवेश लेंगे उन्हें प्रारंभिक गणित विषय का विकल्प नहीं मिलेगा, जबकि  2017-18 में कक्षा 9 के जिन छात्रों ने प्रारंभिक गणित विषय लिया था, उनके लिए 2019 में हाईस्कूल की बोर्ड परीक्षा कराई जाएगी, और वर्ष  2020 की हाईस्कूल परीक्षा में प्रारंभिक गणित का पेपर नहीं होगा |


गणित विषय के छात्रों की संख्या में वृद्धि  
यूपी बोर्ड में प्रारंभिक गणित की अपेक्षा गणित विषय के छात्रों की संख्या में प्रतिवर्ष निरंतर वृद्धि  हो रही है,  वर्ष  2018 के शैक्षणिक सत्र के आकडे के अनुसार, हाईस्कूल परीक्षा में प्रारंभिक गणित लेने वाले छात्र-छात्राओं की संख्या 1 लाख 48 हजार 755 थी, परन्तु गणित लेने वाले परीक्षार्थियों की संख्या 25 लाख 21 हजार 353 थी, इससे स्पष्ट है,  कि गणित विषय को छात्र  अधिक वरीयता दे रहे हैं ।


20 वर्ष  बाद हुआ यह परिवर्तन  
यूपी बोर्ड में यह परिवर्तन अंतिम बार वर्ष 1998 में हुआ था, उस समय शासन ने हाई स्कूल में गणित और प्रारंभिक गणित विषय को लागू किया था, उस समय प्रारंभिक गणित में पुराने पैटर्न की विषय-वस्तु रखी गयी थी,और बाद में यह एक प्रचलन बन गया था, कि जिन छात्रों को इंटर में विज्ञान विषय की पढ़ाई करनी होती थी, वही गणित विषय लेते थे, जबकि विज्ञान विषय न लेने वाले छात्र प्रारंभिक गणित नहीं ले रहे थे, लेकिन अब इंटरमीडिएट शिक्षा अधिनियम 1921 में संशोधन के प्रस्ताव को स्वीकृति मिलने  के बाद शैक्षणिक सत्र से प्रारंभिक गणित का विकल्प समाप्त कर दिया गया है ।

यहाँ आपको हमनें यूपी बोर्ड द्वारा हाईस्कूल में प्रारंभिक गणित के विकल्प को समाप्त करनें के बारें में बताया | यदि इससे सम्बंधित आपके मन में कोई प्रश्न आ रहा है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से व्यक्त कर सकते है | हमें आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया का इंतजार है |

ऐसे ही जानकारी जानने के लिए हमारें पोर्टल पर आप डेली विजिट करके इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करें, तथा sarkarinaukricareer.in पोर्टल को सब्सक्राइब करें |





Advertisement


Advertisement