15 साल के लिए डिबार होंगे दागी स्कूल, अगर कराइ सामूहिक नक़ल

Saturday, February 17, 2018

15 साल के लिए डिबार होंगे दागी स्कूल, अगर कराइ सामूहिक नक़ल

15 साल के लिए डिबार होंगे दागी स्कूल, अगर कराइ सामूहिक नक़ल
उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं में नक़ल विराम हेतु सरकार  द्वारा सख्त कदम उठाये गये है, इसके पश्चात कई स्कूलों में सामूहिक नकल के मामले प्रत्यक्ष रूप से सामने आये है, जिसे देखते हुए सरकार नें सख्त संकेत दिए हैं, सामूहिक नक़ल कराये जाने पर स्कूलों को पंद्रह साल के लिए परीक्षा से बैन किया जा सकता है, इसके बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहें है |


15 वर्षो के लिए बैन 
उत्तर प्रदेश में ऐसे अनेक मामले पकड़े जा चुके हैं, जिसमे सामूहिक नक़ल करायी गयी | ऐसे में बोर्ड इन स्कूलों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की तैयारी कर रहा है, जिससे किसी स्कूल के प्रबंधक या प्रधानाचार्य भविष्य की परीक्षाओं में नकल करवाने की कोशिश न करें |  प्राप्त जानकारी के अनुसार,  नकल के मामले पाए जाने पर ऐसे स्कूलों को बोर्ड परीक्षा से 15 साल के लिए डिबार किया जा सकता है ।


आजीवन के लिए किया जा सकता है डिबार
बोर्ड के नियमों अनुसार सामूहिक, ऐसे विद्यालय, जो नियमो को न मानते हुए, नकल समेत गंभीर अनियमितता करते है, तो ऐसे  स्कूल को आजीवन डिबार कराने का भी प्रावधान है । आजीवन डिबार करने की स्थिति में स्कूल पर 15 साल के लिए बैन किया जाता है | ऐसे में दागी स्कूलों को इस बार दोषी पाने पर अधिकतम सजा देने की तैयारी की जा रही है ।

शासन को जल्द प्रस्ताव
सजा के इस प्रावधान के संबंध में संयुक्त शिक्षा निदेशकों की रिपोर्ट मिलने के बाद बोर्ड की ओर से शासन को इसका प्रस्ताव भेजा जा सकेगा, वर्तमान में चल रही परीक्षाओं के कारण बोर्ड ने इस पर कोई भी आधिकारिक जानकारी नहीं दी है ।


परीक्षार्थी परीक्षा में अनुपस्थित
बोर्ड परीक्षा के लिए इस बार 66,37,018 परीक्षार्थी पंजीकृत थे, इनमें हाईस्कूल की परीक्षा में शामिल होने वाले परीक्षार्थियों की संख्या 36,55,691 और इंटरमीडिएट परीक्षा में सम्मिलित  होने वाले परीक्षार्थियों की संख्या 29,81,327 है । यूपी बोर्ड परीक्षा में अनुपस्थिति का आंकड़ा पांचवें दिन 10,47,406 तक पहुंच गया,  हाईस्कूल और इंटर के व्यावसायिक विषयों की परीक्षा थी, इसके पश्चात 2787 परीक्षार्थी परीक्षा देने नहीं आए,  इनमें 91 इंटरमीडिएट और 2696 हाईस्कूल के परीक्षार्थी हैं । यही नहीं इन विषयों में भी नकल करते हुए 46 परीक्षार्थियों को पकड़ा गया,  इससे परीक्षा के दौरान पांच दिनों में पकड़े गए नकलचियों की संख्या बढ़कर 414 हो गई है।


मित्रों, यहाँ आपको हमनें हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं में नक़ल विराम हेतु सख्त नियमों  के बारें में बताया | यदि इससे सम्बंधित आपके मन में कोई प्रश्न आ रहा है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से व्यक्त कर सकते है | हमें आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया का इंतजार है |

ऐसे ही जानकारी  जानने के लिए हमारें पोर्टल पर आप डेली विजिट करके इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करें, तथा sarkarinaukricareer.in पोर्टल को सब्सक्राइब करें |


Advertisement


Advertisement