Friday, March 16, 2018

आईआईएम के दो साल के कोर्स को ही डिग्री की मान्यता - पढ़े पूरी जानकारी

आईआईएम के दो साल के कोर्स को ही डिग्री की मान्यता
भारतीय प्रबंध संस्थान अर्थात आईआईएम ऐसे संस्‍थान हैं, जो भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था के विभिन्‍न सेक्‍टरों में प्रबंधन के क्षेत्र में परामर्श सेवाएं प्रदान करने और गुणवत्‍तायुक्‍त प्रबंधन शिक्षा और प्रशिक्षण और अनुसंधान प्रदान करने के उद्देश्‍य से स्‍थापित किए गए है।

इन संस्‍थाओं की पहचान उद्योगों में प्रशिक्षण, अनुसंधान और संवाद स्‍थापित करने के लिए विश्‍व में उत्‍कृष्‍ट प्रबंधन संस्‍थाओं के रूप में की जाती है,हाल ही में केंद्र सरकार ने, यूजीसी एक्ट के अंतर्गत दो वर्षीय डिप्लोमा को डिग्री के रूप में मान्य किये जाने के बारें में कहा है, इसके बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहें है |


दो वर्षीय डिप्लोमा को डिग्री के रूप में मान्यता  
सरकार का मानना है, कि उच्च शिक्षण संस्थानों में बढ़ती विश्वस्तरीय प्रतिस्पर्धा को देखते हुए रणनीति और योजना के साथ कार्य  करना आवश्यक है, केंद्र सरकार नें यूजीसी एक्ट के अंतर्गत दो वर्षीय डिप्लोमा को डिग्री के रूप में मान्य किये जानें के बारे में कहा है, जबकि एक वर्षीय एग्जीक्यूटिव डिप्लोमा डिग्री के रूप में मान्य नहीं किया जायेगा |

आइआइएम में गुणात्मक सुधार को लेकर मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडे़कर की अध्यक्षता में एक बैठक का आयोजन हुआ, जिसमें आईआईएम से तीन वर्ष का एक्शन प्लान, सात वर्ष की  रणनीतिक योजना और पंद्रह साल का विजन दस्तावेज देने के निर्देश दिए है,साथ ही आईआईएम प्रबंधन से 31 मार्च तक नियम बनाये जाने का आदेश दिया गया है | 


पूर्व में मिल चुकी है स्वीकृति
भारतीय प्रबंध संस्थान विधेयक-2017 को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंजूरी प्रदान कर दी थी, जिसके फलस्वरूप इस विधेयक ने कानून का रूप ले लिया, लोकसभा ने इसे जुलाई - 2017 और राज्यसभा ने 19 दिसंबर को पारित किया था, इस अधिनियम के अनुसार, प्रत्येक संस्थान का बोर्ड ऑफ गवर्नर्स ही उनका मुख्य कार्यकारी निकाय होगा, जिसमें 19 सदस्य होंगे, यह बोर्ड उद्योग, शिक्षा, विज्ञान, तकनीक, प्रबंधन या लोक प्रशासन के क्षेत्र की किसी प्रख्यात व्यक्ति को अपना चैयरपर्सन नियुक्त करेगा, बोर्ड में केंद्र सरकार और संबंधित राज्य सरकार का भी एक-एक प्रतिनिधि होगा, प्रत्येक संस्थान का बोर्ड ऑफ गवर्नर्स एक निदेशक की भी नियुक्ति करेगा, जो संस्थान का मुख्य कार्यकारी अधिकारी होगा ।


यहाँ आपको हमनें आईआईएम के दो वर्ष के डिप्लोमा कोर्स को डिग्री के रूप में मान्य किये जाने के बारे में बताया | यदि इससे सम्बंधित आपके मन में कोई प्रश्न आ रहा है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से व्यक्त कर सकते है | हमें आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया का इंतजार है |

ऐसे ही जानकारी जानने के लिए हमारें पोर्टल पर आप डेली विजिट करके इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करें, तथा sarkarinaukricareer.in पोर्टल को सब्सक्राइब करें |

Advertisement


Advertisement